Salt Benefits And Side Effects In Hindi | ज़्यादा नमक खाने के नुकसान

सबसे ज़्यादा नुकसानदायक होता है सफ़ेद नमक, और लोग वही खाना पसंद करते हैं

ज़्यादा नमक खाने के नुकसान: दोस्तों आपने ज़्यादातर लोगों को यह कहते हुए सुना होगा कि नमक कम खाना चाहिए, यह आपकी सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है. वैसे यह बात सच भी है कि नमक का सेवन ज़्यादा मात्रा में करने से हमारे ह्यूमन बॉडी को गंभीर नुकसान हो सकते हैं.

नमक, जिसको हम अंग्रेजी में साल्ट भी कहते हैं जो कि सोडियम क्लोराइड होता है, यह आपके शरीर के लिए इतना घातक हो सकता है कि आप कल्पना भी नहीं कर सकते.

Salt Benefits And Side Effects In Hindi

Side Effects Of High Intake Of Salt

ज़्यादा नमक खाने की वजह से आपके शरीर में दिल से लेकर किडनी जैसे कई अंग काम करना बंद कर सकते हैं. लेकिन एक हकीक़त यह भी है कि बिना इसके जीवित रह पाना भी बेहद मुश्किल है.

वहीं दूसरी तरफ अगर हमारे शरीर में इसकी मात्रा ज़रुरत से ज़्यादा बढ़ जाए तो मामूली से दिखने वाले नमक के ये सफेद दाने आपके शरीर को अन्दर से खोखला कर सकते हैं.

इसकी वजह से आपको बालों का झड़ना, त्वचारोग, एसिडिटी, हाई-ब्लड प्रेशर, सेक्सुअल कमजोरी, सीने से जुडी कई तरह की बीमारियाँ हो सकती हैं.

नमक में मौजूद ‘सोडियम क्लोराइड’ आपकी बॉडी में यूरिक एसिड को बढ़ा देते हैं, जिससे आपको हार्टअटैक जैसी लगभग 40 से भी ज़्यादा गंभीर बीमारियाँ हो सकतीं हैं.

आज हमारे देश में 90% से ज्यादा लोग अपनी दिनचर्या के खानपान में नमक को अपने शरीर की ज़रुरत से ज़्यादा खा रहे हैं. हमारे भोजन में नमक पहले से होता है, इसके बाबजूद भी कुछ लोग ऊपर से और भी डाल लेते हैं.

बाज़ार में मिलने वाले फ़ास्ट फ़ूड जैसे के पेटीज़, चिप्स, समोसे, कचोरी और चाट-पकोड़े आदि का सेवन करना हमारी आदत में शामिल हो चुका है.

ज़्यादा नमक खाने के नुकसान

बाज़ार के फ़ास्ट फ़ूड में टेस्ट देने के लिए नमक को थोड़ा ज़्यादा मात्रा में डाला जाता है. इसी वजह से लोग तीखे नमकीन और चटपटे स्वाद की वजह से फ़ास्ट फ़ूड खाने के आदि बन जाते हैं. और इस तरह से लोग अनजाने में पैसे देकर अपने स्वाथ्य के साथ एक बेहद गंभीर खिलवाड़ करते हैं.

Salt namak Benefits and Side Effects in Hindi

ज़्यादा नमक का सेवन करना एक धीमे ज़हर के सेवन करने जैसा होता है, जिसका प्रभाव आपको अपने शरीर में एक लम्बे अरसे के बाद दिखाई देता है.

एक तरह से देखा जाए तो नमक भी चीनी की तरह ही हानिकारक होता है, जिस तरह से हम लोग चीनी खाना बंद नहीं कर सकते ठीक उसी तरह नमक खाना भी पूरी तरह छोड़ पाना बेहद मुश्किल है, क्योंकि नमक और चीनी के बिना अधिकतर व्यंजन खाने में स्वादहीन लगते हैं.

दोस्तों आज के इस विडियो में हम जानेंगे कुछ ऐसे लक्षणों के बारे में, जिनके ज़रिये यह पता लगा सकते हैं कि आपके शरीर में नमक की मात्रा बढ़ी हुई है या नहीं. और नमक आपके शरीर पर क्या-क्या प्रभाव डालता है.

शरीर में नमक की मात्रा होना भी ज़रूरी है, जानिए क्यों

नमक शरीर में सोडियम का मुख्य स्त्रोत है, सोडियम एक ऐसा तत्व है इसके बिना हम जीवित नहीं रह सकते, ये हमारे शरीर में तरल का बैलेंस बनाये रखता है, अगर शरीर में इसकी कमी हो जाए तो इससे हाइपोनेट्रेमिया नामक गंभीर बीमारी भी हो सकती है.

जिससे बार-बार थकान होना, चक्कर आना और बॉडी में वीकनेस होने जैसे लक्षण दिखने लगते हैं. शरीर में सोडियम की कमी हमारी रीढ़ की हड्डी को भी खराब कर सकती है, और इससे दिमागी संतुलन भी खराब हो सकता है, जिससे व्यक्ति कोमा में भी जा सकता है.

आपके मन में सवाल उठ रहा होगा कि जब नमक हमारे लिए इतना जरूरी है तो फिर इसे हानिकारक क्यों माना जाता है?

दोस्तों इसकी सबसे बड़ी वजह है हमारा खान-पान, इसमें पहले से ही सोडियम काफी मात्रा में मौजूद होता है, उसके बाद भी हम दिन भर में जाने-अनजाने में एक निश्चित मात्रा से ज़्यादा सोडियम लेने लगते हैं.

सफ़ेद दानेदार नमक सबसे ज़्यादा नुकसानदायक

केमिकल और रिफायनिंग प्रोसेस से बना ये सफेद दानेदार नमक, दरअसल हमारे शरीर के लिए सबसे ज्यादा हानिकारक होता है, इसीलिए आयुर्वेद में सेंधा नमक खाने की सलाह दी गयी है.

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के अनुसार दिनभर में एक व्यक्ति को सामान्य रूप से 3 से 5 ग्राम तक नमक खाना चाहिए. फरवरी 2019 में की गई एक स्टडी से पता चला है कि भारत में रहने वाले कुछ लोग 24 घंटे के अपने खान पान में 11 से लेकर 15 ग्राम तक नमक खा जाते हैं.

शरीर में ज़रुरत से ज़्यादा नमक लेना लोगों को दिल से जुड़ी बीमारियाँ पैदा करता है, इसीलिए पिछले कुछ सालों में देश में हार्ट अटैक के मामलों और दिल से जुड़ी बीमारियों में काफी इज़ाफा हुआ है.

Salt Side Effects In Hindi

हर साल हमारे देश में लगभग 23 लाख लोगों की मौत कार्डियोवैस्कुलर बीमारी की वजह से हो जाती है, आज पूरे भारत में 23% लोग हाईब्लड प्रेशर के मरीज़ हैं.

ज़्यादा नमक खाने से हमारे शरीर में धीरे-धीरे पित्त की मात्रा बढ़ने लगती है, जिससे हाइपर एसिडिटी जैसी गंभीर समस्या होने की संभावना काफी बढ़ जाती है.

ज़्यादा नमक खाने वालों का होता है ये हाल

शरीर में नमक की मात्रा बढ़ने से आपके बाल समय से पहले ही सफ़ेद होना शुरू हो जाते हैं, आंखें भी कमज़ोर होने लगती हैं. ज़्यादा नमक का सेवन करने से खुजली जैसे कई तरह के त्वचा रोग हो सकते हैं.

हमारे शरीर में बढ़े हुए नमक की मात्रा हमारी हड्डियों में कैल्शियम की मात्रा को धीरे-धीरे घटाने लगती है. और वक्त के साथ-साथ हमारी हड्डियां कमजोर पड़ने लगती हैं.

ज्यादा नमक खाने वाली लोगों के शरीर से पसीना ज्यादा निकलता है, पानी शरीर से जल्दी बाहर निकलने लगता है जिससे बार-बार पेशाब आनी की समस्या होती है और इससे प्यास भी ज्यादा लगती है.

ये आपके शरीर की अंदरूनी गर्मी बड़ा देता है, और अक्सर पेट में जलन होने की शिकायत भी बनी रहती है. ज़्यादा नमक का सेवन हमारी किडनी पर भी बुरा असर डालता है.

दिल का मरीज़ बना देता है ज़्यादा मात्रा में नमक का सेवन

हाई ब्लड प्रेशर की वजह से दिल से जुड़े कई गंभीर रोग उत्पन्न हो सकते हैं, कई लोगों को अक्सर अपने बड़े हुए ब्लड प्रेशर का अंदाजा नहीं होता और फिर अचानक एक दिन वह हार्ट अटैक का शिकार बन जाते हैं.

आमतौर पर हमारे भोजन की थाली में रोटी और सब्जी में शरीर की जरूरत के मुताबिक नमक की मात्रा पर्याप्त होती है. जैसे कि रोटी, सब्जी, दाल, चावल और सलाद.

इसके अलावा कुछ ऐसे एक्स्ट्रा फ़ूड होते हैं जो कि हमारे शरीर में सोडियम की मात्रा को तेज़ी से बढ़ाने का काम करते हैं, जैसे के आचार, क्या आप जानते हैं कि आम के अचार की एक कली में लगभग 500 से 1000 MG तक का सोडियम हो सकता है.

यानी कि एक ही बार में लगभग 1 ग्राम नमक इसी तरह पापड़, नमकीन, सलाद, के ऊपर डाला गया नमक भी हमारे शरीर में तेज़ी से सोडियम की मात्रा को बढ़ाने का काम करते हैं.

आलू, ब्रोकली, ककड़ी, तरबूज़ और खरबूजा इन जैसी चीज़ों में पोटेशियम अधिक पाया जाता है, जो आपके शरीर में सोडियम की मात्रा को बैलेंस बनाए रखने का काम करता है.

काला नमक ही खाने के लिए सबसे बेहतर है

आमतौर पर सबसे ज़्यादा खाया जाने वाला नमक ही हमारे शरीर के लिए सबसे ज्यादा हानिकारक होता है, ऐसा इसलिए क्योंकि इस नमक को बहुत सफेद और शुद्ध बनाने के लिए केमिकल पर रिफायनिंग प्रोसेस का इस्तेमाल किया जाता है, और रिफायनिंग की वजह से इसमें मौजूद आधे से ज़्यादा ज़रूरी और पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं जिसमें आयोडीन भी शामिल है.

आपको टीवी पर एडवर्टाइजमेंट दिखाकर जिस नमक को साफ़ शुद्ध बताकर, आयोडीन युक्त नमक बताकर महंगे दामों पर बेचा जाता है दरअसल उसमें आयोडीन की नाम मात्र ही मात्रा बची होती है.

उम्मीद करता हूँ आज से आप अपने भोजन में नमक की मात्रा कम कर देंगे और ज़्यादा नमकीन चीज़ें खाने से भी बचेंगे, दोस्तों आपको हमारा यह वीडियो कैसा लगा कमेंट करके हमें ज़रूर बताएं और ऐसे ही विडियो देखने के लिए हमारा चैनल सब्सक्राइब करें!

Leave a Comment